Wednesday, June 3, 2009

जो भी प्यार से मिला हम उसी के हो लिए

कितना खूबसूरत गाना है न ये। वाकई। इस गाने की सिर्फ़ इस लाइन को अपनी जिंदगी से जोड़ के देखिये मजा आ जाता है। लगता है कि आजाद पंछी हैं हम, न कोई बंदिश है न ही कोई ठहराव। सिर्फ़ अनंत आकाश है और सपनों को परवाज़ मिल गए हैं। ख़ास बात है कि इन्हे कोई कतरने वाला भी नहीं है...आसमान अपना है और उड़ान की कोई सीमा नहीं है। सोचिये सिर्फ़ इतना सा बदलाव आ जाए तो कितना सुख मिलता है।
मेरे साथ भी कुछ ऐसा ही हुआ, या कहिये ऐसा ही एहसास हुआ। और सारी टेंशन छू मंतर हो गई। लगा जैसे प्यार में असीम ताकत है, इसके आगे कोई दुःख का अस्तित्व नहीं है । सारी परेशानियाँ बस यहाँ आकर थम जाती हैं, और धीरे से खुशी चेहरे पर वापस आ जाती है। सही कहा गया है कि आपको कितना भी क्यों न पता हो, कोई दूसरा वही बात कहता है तो असर करती है। मुझे एक सबक मिला। सबको लेना चाहिए। तभी जिंदगी का कोई मतलब है। एक जिंदगी है जिसे हम संवार सकते हैं।
किसके चेहरे पे उदासी रंग लाती है।
ये जालिम दुनिया ही खूब सताती है॥
हमारे चेहरे पर भी हँसी खिल के आती है, जब
एक अदनी सी खुशी भी झिलमिलाती है॥

2 comments:

ajay kumar jha said...

jindagee bahut chhotee hai...pyar ke liye aur nafrat ke liye bhee to kyun na pyar hee pyar ho....jo ye baat samajhtaa hai aisaa hee sochtaa hai....achha likhaa aapne...

Science Bloggers Association said...

सुंदर ख्याल की खूबसूरत अभिव्यक्ति।
-Zakir Ali ‘Rajnish’
{ Secretary-TSALIIM & SBAI }

Related Posts with Thumbnails