Friday, November 28, 2008

वतन पर मिटने वालों के बाकी कितने निशां होंगे....

शहीदों की मजारों पर लगेंगे हर बरस मेले।
वतन पर मिटने वालों का बाकी यही निशां होगा।।
आप कुछ यही सोच रहे हैं ... पर कितने दिनों के लिए आइये जानते हैं..
उनकी शहादत रंग लाती दिख रही है४४ घंटे बाद संजय करकरे, अशोक कमते और विजय सालसकर की मौत थोड़ी तो काम आई। नरीमन हाउस आतंकियों को मार गिराने के बाद लोगों की खुशी सड़क पर दिखने लगी। पर इस दौरान उन्हें ये किसी ने समझाने की कोशिश नहीं की कि १२५ लोग मरे भी हैं। ३०० लोग हॉस्पिटल में ज़िन्दगी कि लड़ाई लड़ रहे हैं। भारत माता की जय कैसे हो सकती है जबकि उसके कई जाबांज सिपाही अपनी जान पर खेल गए। अरे उन्हें शर्म आनी चाहिए कि ऐसी वारदात हो गई। उन्ही के बीच रहे लोगों ने सुनियोजित प्लान के तहत माँ का दिल चलनी कर दिया। जाने कितनी पत्नियाँ बेवा हो गईं। कितने परिवार बसने से पहले उजड़ गए। ये मीडिया किसकी तारीफ कर रहा है। समझ नहीं आता। क्यों हम ख़ुद ही अपनी कमजोरी छिपाते हैं । कोई ये नहीं सोच रहा है कि आख़िर ऐसा कैसे हो गया। ४० आतंकियों ने हिला के रख दिया। ५०० कमांडो बुलाये गए उसमे भी एक मेजर और एक जवान शहीद हो गए। उनकी शहादत पर भारत माता की जय करने वाले कल उन्हें भूल जायेंगे। फ़िर सब अपनी जिंदगी में व्यस्त हो जायेंगे। और फ़िर ऐसा कुछ होगा जिसके लिए सब एक टीवी पर नज़र गड़ाए घंटों बैठे रहेंगे और सरकार को गरियाएंगे। मित्रों जरा अपने ज़मीर से पूछिये की कैसा महसूस होता है। हालाँकि बहुत मुश्किल है। कोशिश कीजिएगा। खुश होने की जरुरत नहीं है। जरा ये तो सोचिये कि ये हुआ कैसे? कौन जिम्मेदार है। हम ख़ुद या सरकार और पुलिस। शायद दोनों..क्योंकि सबको अपनी फ़िक्र है। अगला मरता है तो मरे। भगत सिंह भी बगल के घर में पैदा हो। इस मानसिकता से बहार निकालिए। इस देश को कोई सरकार नहीं बचा सकती। हमें ही कुछ करना है। और मैं कुछ दिनों बाद अपने सवाल का जवाब दूंगा.जो आप लोगों की ज़िन्दगी का रुख बताएगी। ईशवर उन्हें खुश रखे जिनके अपने शहीद हो गए। थोडी शर्म बाकि हो तो आतंक का सफाया करिए। जो संदिघ्ध दिखे उसकी ख़बर पुलिस को कीजिये। शायद हालत सुधरें। प्रधानमंत्री जी ने अगर अफज़ल गुरु की फांसी में लंगड़ न मारा होता तो शायद ये न होता। किसी आतंकी को बख्शना अपने लिए ही बारूद इकठ्ठा करना है। हम ख़ुद ही अपने लिए मौत का सामान जुटा रहे

10 comments:

kaushi said...

Jab humne mahan Bhagat Singh,Aazad aur Bosh ji jaiso ko bhula diya to in police officers ki bisat hi kya hai.

Aaj Bharat ka har shaks deshprem ki baatein kar raha hai par agar sayad hum me se kuch ne bhi apni jimmedari puri imandari se nibhai hoti to ye naubat hi na aayi hoti.

Khair, der aaye durust aaye agar sab ab se apna kartavya farz samjh kar karein to hum ek bar phir apne des ko "SONE KI CHIDIYA" bana sakte hai.

"JAI HIND,JAI BHARAT"

Manmohan Singh said...

This same emotionalism is taking lives of the people.. everytime a terrorist is arrested, all the human rights organisations rally around him to make sure that they enjoy all the rights they claim as "humans".. however, they forget about the human rights of the innocent people these "humans" took.. all this has given rise to the belief that Indians are soft people.. non violent.. civilized.. i don't think being civilized means you have to sit back and watch these events calmly on your television as if it were a soap opera.. hard decisions are need now.. we have to be blunt with these terrorists.. give them a fitting reply to the perpetrators of these dastardly acts.. otherwise the balkanization of our beloved India is not a far fetched scenario...

...ab bhi na khaula ho vo khoon khoon nahi pani hai, desh ke jo kaam na aaye, vo bekaar jawaani hai...

Priya said...

very well written nik..
terrorism' is really a very serious n concerning issue and we all have to do something otherwise such attacks will become common sight in our nation. The brave soldiers will continue to give their lives and politicians will stand up on their bodies n will keep on asking for their votes...really disgusting...

i hope atleast we people will do something or the other to combat this diease of terrorism...
good luck to u n to us as well...

keshav said...

mujhe aap ka blog accha laga...khas kar isme likhe kuch lines ...jisme aap ne ye sawaal v uthaye hai ki ..kbtak hum in shahido ko yaad rakhenge? chand lamhe....!! fir ky? shayed ye G.K ki kitad k 1 pnne me v thodi se jagaha ko taras jayen...abhi to hum in saputon ko sahid aadi kah rahe hai ....pata nai kal koi neta vote ki kahtir is opration par hi sawal utha de..."LALU ,PASWAM,AMAR singh".....
ise liyre shaye mayen apne ghar mai"BHAGAT SINGH" nahi chahatin....

Chandni said...

gud work niks
mai bas itna kehna chahungi ki is mumbai attack me sirf poice officers hi humare lye shahid ni hue,inke alawa kuch aise log hain jinke bare me shayad kisi ne dhyan ni dia,vo hain hotel mmanagement k students jo vahan different posts pe assigned the.unhone sare guests ko bahar safely nikala magar kudh terrorists ki goliyon se ni bach paye.
so i wud also lyk to salute those brave students/staff out thr.
thank u

kranti ki patrkarita said...

Bhagat singh tum kabhi na phir kaya lena bharat washi ki, kyo ki aaj bhi desh bhakti ki saja hain yaha fanshi ki.

life said...

well written , jab tak hum is terrorism ki jado tak nahi jayenge tab tak isse jeet pana muskil hai , politics kaffi had tak isska karar hai.

kahkashan said...

well written niks.
mjhe ji kuj bhi kehna hai main bas in 4 lines main likhungi

"toofan-e-bilakhej se darna kaisa,,,
har jagah mushkiloun se gujarna seekho,,

meri himmat ko saraho mere humraaj bano,,,,,
maine ik shamma jala di hai hawaoun k khilaaf

kahkashan said...
This comment has been removed by the author.
Nibha said...

Great work!!
Its sad to know that even in such a heart touching moment politicians are playing politics.They are utilising the situation for votes.
Its ridiculous to listen comments like"itne bade shahar mein yeh sab hona mamuli baat hai"from some of the the politicians.
you have truely said that the memories of shaheeds will soon fade away from our brain and their families wil be left alone to bear an irrrepairable loss.

We really need to do something.Its high time now.

Related Posts with Thumbnails